Uncategorised

कवयित्री : सुधा त्रिपाठी शुक्ला

जय मां शारदे विद्या दायिनी कल्मष हारिणी वीणा वादिनि वर दायिनी  माता । वर दो ऐसा काव्य पथिक कहाऊं। नित नवीन  भावों को गूंथूं शब्दों की माला पहनाऊं । शब्दों से अपने  सबको सुख पहुचाऊं ऐसी कर दो कृपा  मां तुम विश्व रचयिता त्रय ताप नाशिनी…